Don't have Telegram yet? Try it now!
http://meenasamaj.com/humanity/gay-ki-seva/
बेबस औऱ लाचारों की सेवा से बढ़कर कोई मानव धर्म नहीं-धर्मवीर महवा