Don't have Telegram yet? Try it now!
https://cinemanthan.com/2020/09/12/mirza-ghalib-gulzar-2/
Mirza Ghalib (1988-89): बंसीधर, ज़ौक़ और शहज़ादा ज़फ़र - ईमानदारी और चापलूसी के बीच घिरे ग़ालिब (अध्याय 2)