Don't have Telegram yet? Try it now!
https://drpoojatripathi.com/2019/08/31/amrita-and-imroz/
तुमने यूँ छुआ है वजूद को, जैसे कोई वतन की मिट्टी को छूता है