Don't have Telegram yet? Try it now!
https://hindi.opindia.com/miscellaneous/others/lokmanya-bal-gangadhar-tilak-sedition-kesari-newspaper/
जब लोकमान्य तिलक की प्रेस को बिकने से बचाने के लिए लोगों ने जुटाए थे ₹3 लाख