Don't have Telegram yet? Try it now!
https://hindi.opindia.com/opinion/social-issues/faiz-ahmed-faiz-liberals-hypocrisy-hum-dekhenge/
फैज़ अहमद फैज़: उनकी नज़्म और वामपंथियों का फर्जी नैरेटिव 'हम देखेंगे'