Don't have Telegram yet? Try it now!
https://makingindia.co/amrita-pritam-writings-ma-jivan-shaifaly/
एक थी अमृता : मेरी सेज हाज़िर है, पर जूते-कमीज़ की तरह तू अपना बदन भी उतार दे